Noida Twin Tower का मालिक कौन है – अरबो का टर्न ओवर, 34 कम्पनिया

28/8/2022 को ठीक दो बजकर 30 मिनट पर Noida Twin Tower ढहा दिया जाएगा। 9 सेकेंड के अंदर 29 मंजिला और 32 मंजिला दोनों इमारतें मलबे में तब्दील कर दिया गया। जब ये दोनों टावर गिरेंगे तो धुएं का गुब्बार कई किलोमीटर दूर तक दिखी दे रहा था।

Noida Twin tower में 200 करोड़ से ज्यादा की लागत लगाई गई थी। और इस टावर को  गिराने में करीब 18 करोड़ का खर्च लगाया गया। और ये खर्च का पैसा बिल्डर से लिया गया। ऐसे में हर किसी के मन में एक सवाल रहता है कि आखिर कौन है इसे बनाने वाला, आखिर इस Noida Twin Tower का मालिक कौन है। और उसने इतनी बड़ी इमारत कैसे खड़ी कर दी?

Noida Twin Tower का मालिक कौन है

Supertech Noida Twin Tower के मालिक का नाम आरके अरोड़ा है। और ये 34 कम्पनी के मालिक है। जिनमें आरके अरोड़ा ने  ब्रोकिंग, प्रिंटिंग, फिल्म्स, हाउसिंग फाइनेंस, कंसलटेंसी, कंस्ट्रक्शन सिविल एविएशन, और तो और कब्रगाह बनाने-बेचने के लिए भी कंपनी खोली है।

जानिए कोर्ट कैसे पहुंचा मामला

2009 में फ्लैट बायर्स ने आरडब्ल्यू बनाया था। और सुपरटेक के खिलाफ कानूनी लड़ाई की शुरुआत भी आरडब्ल्यू ने किया। आरडब्ल्यू ने पहले Noida Twin Tower के अवैध निर्माण को लेकर नोएडा अथॉरिटी मे गुहार लगाई थी। और जब  कोई सुनवाई नहीं हुई तो आरडब्ल्यू ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में गुहार लगाई।

जिसका परिणाम ये हुवा की 2014 में हाईकोर्ट ने Noida Twin Tower तोड़ने का आदेश जारी करदिया। शुरुआती जांच में नोएडा अथॉरिटी के करीब 15 अधिकारी और कर्मचारी दोषी पाए गए। इसके बाद एक हाई लेवल जांच कमेटी की तरफ से  मामले की पूरी जांच कराइ गई। जांच रिपोर्ट के बाद अथॉरिटी के 24  कर्मचारियों और अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी गई।

जब 2014 में हाई कोर्ट ने टावर गिराने का आदेश दे दिया था तो आठ साल क्यों लग गए इसे गिराने में?

इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के बाद ये मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया। सात साल चली लड़ाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने 31 अगस्त 2021 को इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को बरकार रखते हुवे। सुप्रीम कोर्ट ने  ट्विन टावर को तीन महीने के अंदर गिराने का आदेश दिया। इसके बाद इस तारीख को आगे बढ़ाकर 22 मई 2022 कर दिया गया। हालांकि, समय सीमा में तैयारी पूरी नहीं हो पाने के कारण तारीख को फिर बढ़ा दी गई। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत 28 अगस्त को दोपहर ढाई बजे ट्विन टावर को गिरा दिया गया।

Supertech Twin Tower में निकलने वाले मलबे से कंपनी की करोड़ों की कमाई तो हो जाएगी लेकिन सुपरटेक सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद से नुकसान ही झेल रही है. यहां तक कि सुपरटेक कंपनी दिवालिया भी घोषित हो चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

House of the Dragon Episode 2 Preview 10 facts Janmashtami Vrat 2022: जन्माष्टमी का व्रत कब रखा जाएगा 18 या 19 को, यहां जानें सही डेट